Monday, Jun 17, 2024
Rajneeti News India
Image default
देश

ब्लैक फंगस के बाद अब Aspergillosis Infection का खतरा, गुजरात में मिले 8 मरीज

डॉक्टरों के मुताबिक फंगल इंफेक्शन के इतने ज्यादा मामले इसलिए सामने आ रहे हैं क्योंकि मरीजों के इलाज के लिए स्टेरॉयड का इस्तेमाल किया जा रहा है. साथ ही ऑक्सिजन सप्लाई को हाइड्रेट करने के लिए नॉन स्टराइल वॉटर का यूज भी इसका एक करण हो सकता है.  

देशभर में ब्लैक फंगस, व्हाइट फंगस और येलो फंगस के बढ़ते मामलों के बीच एक नए तरह के फंगस ने लोगों को डरा दिया है. गुजरात के वडोदरा में ब्लैक फंगस के 262 मरीजों का इलाज चल रहा है. अब इनके साथ-साथ शहर में एक और फंगल इंफेक्शन का खतरा बढ़ रहा है जिसका नाम है एस्परगिलोसिस (Nasal Aspergillosis). इसका संक्रमण साइनस में होता है. इस नई बीमारी से डॉक्टर भी हैरान हैं. जानकारी के मुताबिक, ये इंफेक्शन कोरोना मरीजों या कोरोना से ठीक हो चुके लोगों को हो रहा है.

साइनस ऐस्पर्जलोसिस का रेयर केस

वडोदरा के SSG अस्पताल में इस नए फंगल इंफेक्शन के 8 मरीज मिले हैं जो पिछले हफ्ते भर्ती हुए थे. शहर और जिला प्रशासन के लिए कोविड -19 के सलाहकार डॉ शीतल मिस्त्री ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा, ‘पलमोनरी एस्परगिलोसिस आमतौर पर इम्यूनो-कॉम्प्रोमाइज्ड रोगियों में देखा जाता है, लेकिन साइनस का एस्परगिलोसिस रेयर है. ये बीमारी अब उन मरीजों में देखने को मिल रही है जो कोविड से ठीक हो गए हैं या उनका इलाज चल रहा है. हालांकि एस्परगिलोसिस ब्लैक फंगस (म्यूकोर्मिकोसिस) जितना खतरनाक नहीं है.’

इसलिए बढ़े फंगल इंफेक्शन के मामले

डॉक्टरों के मुताबिक फंगल इंफेक्शन के इतने ज्यादा मामले इसलिए सामने आ रहे हैं क्योंकि मरीजों के इलाज के लिए स्टेरॉयड का इस्तेमाल किया जा रहा है. साथ ही ऑक्सिजन सप्लाई को हाइड्रेट करने के लिए नॉन स्टराइल वॉटर का यूज भी इसका एक करण हो सकता है.  

ब्लैक फंगस के 262 मरीज

SGS अस्पताल में मल्टी ड्रग्स रेजिस्टेंस यीस्ट इंफेक्शन कैंडिडा ऑरिस के भी 13 मामले सामने आए हैं. बता दें कि वडोदरा के दो सरकारी अस्पतालों (SGS और गोत्री मेडिकल कॉलेज) में ब्लैक फंगस (म्यूकोरमाइकोसिस) के 262 मरीजों का इलाज चल रहा है.

नाइट कर्फ्यू में ढील

गुजरात में कोरोना वायरस के मामलों में गिरावट देखने को मिल रही है. इस बीच राज्य सरकार ने 36 शहरों में नाइट कर्फ्यू में एक घंटे तक की रियायत देने का फैसला किया है. जबकि दिन के वक्त लगाई गई पाबंदियां ज्यों की त्यों लागू रहेंगी. मुख्यमंत्री विजय रूपाणी बुधवार को इस बात की घोषणा की. मुख्यमंत्री ने कहा कि शुक्रवार से 36 शहरों में रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लागू रहेगा. फिलहाल रात आठ बजे से सुबह छह बजे तक रात का कर्फ्यू लागू है.

Related posts

Corona के बाद बच्‍चे हो रहे MIS-C संक्रमित? हार्ट, लिवर और किडनी प्रभावित होने का खतरा

News Team

हुगली में बोले मोदी:जब कोई EVM को दोष देने लगे, तो समझ लीजिए कि उसका खेल खत्म हो चुका है

News Team

फाइजर ने भारत में इमरजेंसी अप्रूवल का एप्लीकेशन वापस लिया; यूपी में 10 फरवरी से स्कूल खुलेंगे

News Team