Monday, Jun 17, 2024
Rajneeti News India
Image default
व्यापार

Post Office MIS : केवल 1000 रुपए लगाकर हर महीने पाएं 4950 रुपए, गारंटी के साथ

 आज आपको पोस्ट ऑफिस की एक ऐसी स्कीम के बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें निवेशकों को एकमुश्त जमा करने पर हर महीने इनकम मिलती है। इस इनकम से आप अपनी जिंदगी को आसानी से चला सकते हैं, वहीं आपका एकमुश्त पैसा भी सुरक्षित रहता है। इसमें निवेशकों को 6.6 फीसदी का शानदार रिटर्न भी मिलता है और इसकी मैच्योरिटी पीरियड 5 सालों के लिए है।

पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम का नाम है Post Office MIS (Monthly Income Account) इसमें कम से कम एकसाथ 1000 रुपए जमा किए जा सकते हैं। इससे ज्यादा की राशि 100 के मल्टीपल में होगी। इंडिविजुअल अधिकतम 4.5 लाख रुपए जमा कर सकता है। ज्वाइंट अकाउंट में 9 लाख तक जमा किए जा सकते हैं। ज्वाइंट अकाउंट में दोनों का कंट्रीब्यूशन बराबर होना जरूरी है। वर्तमान में इंट्रेस्ट रेट 6.6 फीसदी।

4950 रुपए हर महीने इंट्रेस्ट इनकम
उदाहरण के तौर पर A और B मिलकर इस स्कीम में मैक्सिमम लिमिट यानी 4.5-4.5 लाख रुपए जमा करता है। इस तरह जमा की कुल राशि 9 लाख रुपए हो गई। 6.6 फीसदी की दर से सालाना इंट्रेस्ट (900000*1*6.6/100=59400) 59400 रुपए होंगे। इस तरह मंथली इंट्रेस्ट इनकम 4950 रुपए होंगे। इसमें से 2475-2475 ए और बी को बराबर मिल जाएंगे।

एलिजिबिलिटी और टैक्स के नियम
एलिजिबिलिटी की बात करें तो 10 साल से ऊपर के माइनर पर पोस्ट ऑफिस एमआईएस अकाउंट खुलवाया जा सकता है। अगर बच्चे की उम्र उससे भी कम है तो गार्जियन उसके नाम पर अकाउंट खुलवा सकता है। जिस दिन यह अकाउंट खुलवाया जाता है उसके ठीक 30 दिन बाद से इंट्रेस्ट का भुगतान शुरू हो जाता है। इस स्कीम में इंट्रेस्ट का भुगतान मंथली आधार पर होता है। अगर अकाउंट होल्डर मंथली इंट्रेस्ट का लाभ नहीं उठाता है तो उसे एडिशनल इंट्रेस्ट का लाभ नहीं मिलेगा। इंट्रेस्ट का भुगतान ऑटो मोड में उसी पोस्ट ऑफिस के सेविंग अकाउंट में किया जा सकता है। इंट्रेस्ट इनकम अकाउंट होल्डर के लिए पूरी तरह टैक्सेबल होती है।

प्री-क्लोजर और अकाउंट होल्डर की मौत पर क्या होगा?
पोस्ट ऑफिस एमआईएस के लिए लॉक-इन पीरियड 1 साल का है जबकि मैच्योरिटी 5 साल है। उससे पहले जमा एकमुश्त रकम नहीं निकाली जा सकती है। अगर अकाउंट 1-3 साल के बीच में बंद किया जाता है तो प्रिंसिपल अमाउंट का 2 फीसदी फाइन के रूप में काट लिया जाएगा। 3-5 साल के बीच में निकासी करने पर 1 फीसदा का फाइन लगता है। अगर अकाउंट होल्डर की मौत हो जाती है तो नॉमिनी को इंट्रेस्ट समेत पूरी रकम का भुगतान कर दिया जाएगा।

Related posts

भारत के साथ व्यापार बढ़ाने के लिए अमेरिका को दूर करनी होंगी ये बाधाएं

News Team

अगर आपके पास नहीं है यह 4 डिजिट का कोड तो नहीं मिलेगा LPG Cylinder! जानें आखिर क्यों?

News Team

दिवाली पर गिफ्ट लेना और देना पड़ न जाए भारी! और मिल जाए टैक्स नोटिस, जानिए सभी नियमों के बारे में…

News Team