Sunday, Jul 21, 2024
Rajneeti News India
Image default
कटनी

कलेक्टर श्री प्रसाद ने सुरखी पौड़ी जलाशय के सौंदर्यीकरण कार्यों में मिली कमियों पर कार्यपालन यंत्री जलसंसाधन से किया स्पष्टीकरण तलब

सुरखी पौड़ी जलाशय के स्थल निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने जाहिर किया था नाराजगी*कटनी। कलेक्टर श्री अवि प्रसाद ने सुरखी पोंडी जलाशय में जारी सौंदर्यीकरण कार्यों में मिली कमियों पर कार्यपालन यंत्री जलसंसाधन व्ही ए सिद्धिकी को कारण बताओ नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण तलब किया है। कलेक्टर श्री प्रसाद ने विगत 13 जून को विधायक मुड़वारा श्री संदीप जायसवाल के साथ संयुक्त रूप से भ्रमण कर सुरखी पौड़ी जलाशय का पर्यटन सुविधाओं के विकास के नजरिए से करायें जा रहे कार्यों का अवलोकन किया था और मिलीं कमियों में सुधार करने की हिदायत दिया था।कलेक्टर श्री प्रसाद को निरीक्षण के दौरान कार्य स्थल पर मिट्टी का कार्य प्रगति पर मिला, लेकिन यह कार्य बिना किसी लाईन लेवल के किया जाना पाया गया।गिट्टी एक साथ एकत्रित की जा रही थी, जबकि मिट्टी की लेयर ग्रेडर के माध्यम से 30 सेमी. की मोटाई में करके पहले रोलर के माध्यम से काम्पेक्शन करने के पश्चात दूसरी लेयर बिछाने का कार्य किया जाना चाहिये था। लेकिन स्थल पर ऐसा किया जाना नहीं पाया गया। कलेक्टर ने इसके लिए कार्यपालन यंत्री जलसंसाधन श्री सिद्धिकी से स्पष्टीकरण देने निर्देशित किया है। साथ ही कार्य स्थल पर जे.सी.बी. के माध्यम से ही मिट्टी की लेयर बिछाई जा रही थी। लेयर बाय लेयर न बिछा कर एक साथ बिछा कर काम्पेक्शन किया जाना पाया गया जिससे गिट्टी के नीचे की लेयर का काम्पेक्शन नही हो पा रहा है। इसके अलावा मिट्टी के कार्य में फारमेशन लेयर एवं स्लोप चिन्हित नही किया गया है। साथ ही गिट्टी का कार्य बिना सर्वे, एल सेक्शन, क्रास सेक्शन गिट्टी की मात्रा का अवलोकन किये बिना प्रारंभ कर दिया गया है। इस पर कलेक्टर श्री प्रसाद ने मौके पर ही नाराजगी जाहिर किया था और अब इसके लिए कारण बताओ नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण तलब किया है। कलेक्टर श्री प्रसाद को निरीक्षण के दौरान इसके अलावा भी कार्य के क्रास ड्रेनेज में एक- दो स्थानों पर ही पाईप बिछाया जाना मिला,जो कि कम प्रतीत हो रहा था। कलेक्टर श्री प्रसाद ने इसके लिये कैचमेंट एरिया एवं हाईड्रोलिक डिजायन के आधार पर ही क्रास ड्रेनेज हेतु पाईप का प्रावधान रखने के निर्देश दिए थे ताकि पानी एकत्रित होने पर मिट्टी के बहने की संभावना न रहे। कलेक्टर ने कार्यपालन यंत्री जलसंसाधन को मिट्टी का कार्य करने के पूर्व मिट्टी की क्षमता मापने के लिये प्रयोगशाला से सी.बी.आर. टेस्ट करायें जाने को अति आवश्यक बताया। कलेक्टर श्री प्रसाद ने मार्ग के निर्माण हेतु ठेकेदार द्वारा मार्ग के साइड से ही मिट्टी की खुदाई किया जाना पाये जाने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा था कि इससे वर्षा ऋतु में मार्ग में पानी एकत्रित होने से मार्ग का इम्बैकमेंट डैमेज हो सकता है। साथ ही मार्ग के जलाशय के भीतर की तरफ स्टोन पिचिंग , प्लांटेशन के प्रावधान रखने की आवश्यकता थी ,जिससे मिट्टी के कटाव को रोका जा सके। लेकिन मौका मुआयना में यह नहीं दिखा। इसके लिए भी कलेक्टर श्री प्रसाद ने कार्यपालन यंत्री जलसंसाधन से स्पष्टीकरण मांगा है।कलेक्टर ने सुरखी जलाशय के पास 2 कक्षों के प्रस्तावित भवन निर्माण के डिजायन में रिटेनिंग वाल का प्रावधान करते हुये फिलिंग करके एक निश्चित हाईट पर स्टेपिंग देकर निर्माण कराने के निर्देश दिये थे। ताकि सुरखी पौड़ी जलाशय के जल सतह के नजारे को सहजता से देखा जा सके।

Related posts

नाली निर्माण कार्य चल रहा गुणवत्ताहीन ,इंजीनियर की मिली भगत से सरपंच लग रहे शासकीय राशि पर पलीता

News Team

फाइलेरिया के विरुद्ध अभियान में सब निभाए सहभागिता – प्रभारी मंत्री श्री देवड़ा

News Team

शराब ठेकेदार बल्लन तिवारी के घर ई. डी.का छापा

News Team